Site icon Global Hindi

एशिया की फर्स्ट वुमन लोको पायलट सुरेख यादव ने चलायी वंदे भारत एक्सप्रेस | Loco Pilot Surekha Yadav

Loco Pilot Surekha Yadav

Loco Pilot Surekha Yadav

Loco Pilot Surekha Yadav

मध्य रेलवे ने कहा कि एशिया की पहली महिला लोको पायलट सुरेखा यादव ने नया मुकाम हासिल किया है लिया है, क्योंकि वह, नई शुरू की गई सेमी-हाई स्पीड वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को संचालित करने वाली पहली महिला बन गई हैं। उसने सोमवार को मुंबई में सोलापुर स्टेशन और छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (CSMT) के बीच सेमी-हाई स्पीड ट्रेन का संचालन किया। मध्य रेलवे की एक Notification में कहा गया कि ट्रेन 13 मार्च को Right Time सोलापुर स्टेशन से रवाना हुई और निर्धारित आगमन से पांच मिनट पहले सीएसएमटी पहुंची जिसे महिला लोको पायलट सुरेखा यादव ने संचालित किया।

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने Twit किया, “वंदे भारत – नारी शक्ति द्वारा संचालित। वंदे भारत एक्सप्रेस की पहली महिला लोको पायलट श्रीमती सुरेखा यादव।” मध्य रेलवे ने कहा, ” श्रीमती सुरेखा यादव ने वंदे भारत एक्सप्रेस की पहली महिला लोको पायलट बनकर मध्य रेलवे की टोपी में एक और पंख लगाया”। पश्चिमी महाराष्ट्र क्षेत्र के सतारा की रहने वाली यादव 1988 में भारत की पहली महिला ट्रेन ड्राइवर बनीं।

उन्होंने अपनी उपलब्धियों के लिए अब तक राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार जीते हैं। सेंट्रल रेलवे ने सीएसएमटी-सोलापुर और सीएसएमटी-साईनगर शिरडी रूट पर दो वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनें शुरू की हैं, जिन्हें 10 फरवरी, 2023 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरी झंडी दिखाई थी। सेंट्रल रेलवे ने सीएसएमटी-सोलापुर और सीएसएमटी-साईनगर शिरडी रूट पर दो वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनें शुरू की हैं, जिन्हें 10 फरवरी, 2023 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरी झंडी दिखाई थी।

रेलवे अधिकारियों के अनुसार, नए मार्गों पर लोको पायलटिंग में व्यापक सीख शामिल है और ट्रेन यात्रा के दौरान चालक दल को हर पल सतर्क रहना पड़ता है। Railway Notification में कहा गया है, “चालक दल सीखने की प्रक्रिया में सिग्नल का पालन करना, नए उपकरणों पर हाथ आजमाना, चालक दल के अन्य सदस्यों के साथ समन्वय, ट्रेन चलाने के लिए सभी मापदंडों का पालन करना शामिल है।”

Exit mobile version